गेंदा फुल की खेती ने आदिवासी युवक के जीवन में बिखेरा खुशबू 10 हजार रूपये से किया शुरूआत

गेंदा फुल की खेती ने आदिवासी युवक के जीवन में बिखेरा खुशबू 10 हजार रूपये से किया शुरूआत

 

गरियाबंद जिले के ग्राम दर्रीपारा के युवा किसान विष्णु नेताम इसके पहले गाजर, कलिंदर और सब्जी की उन्नत खेती कर चुका है कृषि विभाग और शासन से अब तक नही मिला सहयोग

दर्रीपारा। आज के अधिकांश युवा जंहा एक ओर खेती किसानी से दुर होते जा रहे है, वही तहसील मुख्यालय गरियाबंद से 25 किलोमीटर दुर दर्रीपारा के एक आदिवासी युवक ने खेती को अपना जीवन यापन का आधार मानकर  जी तोड मेहनतकर फूलों की खेती कर गरियाबंद ब्लॉक  ग्राम दर्रीपारा निवासी विष्णु नेताम आठवीं तक पढ़ाई किया है , उन्होने अपने घर के तीन एकड खेती में अपना जीवन संवारने का संकल्प लिया, पिछले तीन चार वर्षो से विष्णु नेताम अपने खेत के आधा से एक एकड खेती में विभिन्न प्रकार के सब्जी, जिसमें कलिंदर, गाजर, मूली, खीरा, लौकी, कददू की उन्नत और सफल खेती करके दिखाया है पहली बार उन्होने अपने आधा एकड खेत में गेंदा फुल की खेती किया है जिसमें अब तक उन्होने 04 क्विंटल गेंदा फुल प्रति किलो 40 रूपये के दर से बिक्री कर चुका है, विष्णु नेताम ने बताया कि इस आधे एकड खेती मे लगभग 10 से 12 क्विंटल गेंदा फुल की फसल उत्पादन होगी, गेंदा फूल के पौधे को उन्होने कलकत्ता से मंगवाया 10 हजार पौैधे मंगवाया था लेकिन उसमें 25 प्रतिशत पौधे खराब हो गये और 75 प्रतिशत पौधे से अब फुल आ चुका है।

युवा किसान विष्णु नेताम ने बताया कि उनके इच्छा तो पुरे तीन एकड में गेंदा फुल की खेती करने की थी पर प्रर्याप्त पानी और पौधे तथा पैसे की कमी से उन्होने आधा एकड में ही गेंदा फुल की फसल लिया है, आज कृषि विभाग तथा जिला प्रशासन को चाहिए कि ऐसे मेहनती युवक जो अपने खेती किसानी से जुडकर एक मिशाल पेश कर रहे है इन्हे प्रोत्साहित करने शासकीय येाजनाओ का लाभ दिया जाये तो निश्चित रूप से आज के युवा खेती किसानी के तरफ अपना कदम बढ़ाएंगे।

युवा किसान विष्णु नेताम कहते हैं कि पहली बार फुल तोंडकर बेचने से ही उनकी लागत निकल गई थी और अब वे काफी उत्साहित हैं क्योंकि अब जो उत्पादन हो रहा हैं, वह उसके मेहनत का परिणाम हैं, और अच्छा आमदनी होने कि उम्मीद हैं, उन्होंने बताया कि गेंदा फुल कि खेती में बाकि फसलों के मुकाबले अपेक्षाकृत कम लागत आती हैं, यही नहीं कि यह ऐसा फसल हैं जो आपको रोजाना कमाई देती हैं, गरियाबंद जिले में लोगो को फुल की बहुत जरूरत हैं अब धीरे धीरे लोगों को दर्रीपारा में गेंदा फुल खेती की जानकारी लगने पर हार माला बनाने वाले लोग उनसे सम्पर्क करने लगे हैँ।


There is no ads to display, Please add some

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *